May 20, 2024
Zindagi Dard Bhari Shayari

150+ Zindagi Dard Bhari Shayari

Zindagi Dard Bhari Shayari वास्तव में कविता के क्षेत्र में, विशेषकर हिंदी साहित्य में एक विशेष स्थान रखती है। इसकी शक्ति न केवल दर्द और दुःख की गहरी भावनाओं को व्यक्त करने की क्षमता में निहित है, बल्कि इन सार्वभौमिक अनुभवों के माध्यम से व्यक्तियों को जोड़ने के तरीके में भी निहित है। इसकी भाषा की जटिलता, इसके रूपकों की समृद्धि, और इसकी कल्पना की जीवंतता मिलकर एक ऐसी जगह बनाती है जहां दर्द को न केवल महसूस किया जाता है बल्कि साझा किया जाता है और समझा जाता है, जो अक्सर एक रेचक रिहाई की ओर ले जाता है।

Zindagi Dard Bhari Shayari को तैयार करने वाले कवि अपने अनुभवों और भावनाओं को अपने काम में डालते हैं, जिससे प्रत्येक टुकड़ा गहराई से व्यक्तिगत लेकिन सार्वभौमिक रूप से प्रासंगिक हो जाता है। ये छंद आत्मा के सबसे अंधेरे क्षणों के दर्पण के रूप में काम करते हैं, न केवल व्यक्तिगत पीड़ा बल्कि सामूहिक मानवीय स्थिति को दर्शाते हैं। यह साझा समझ उन लोगों के बीच समुदाय और जुड़ाव की भावना को बढ़ावा देती है जो इसकी पंक्तियों में सांत्वना पाते हैं।

Zindagi Dard Bhari Shayari

Zindagi Dard Bhari Shayari

एक तो उसकी मोहब्बत झूठी है
ऊपर से मुझसे रूठी है..!!

अच्छा होता तू मिलती ना जिंदगी के सफर में
नही खोता मुश्कुराता हुआ चेहरा इस डगर में..!!

मोहब्बत थी तो अब बदल क्यों गए
सीधा कहो ना कोई और तुम्हे मिल गए..!!

एक ऐसा प्रेमी बनो जो साबित कर सके
की सभी प्रेमी एक जैसे नहीं होते..!!

एक ऐसा प्रेमी बनो जो साबित कर सके
की सभी प्रेमी एक जैसे नहीं होते..!!

कोई प्यार कोई परवाह नहीं
हम तो बस टाइम पास के लिए तुम्हे मिले थे..!!

प्यार था तो जताया क्यों नही
हमसे गलती हुई तो हमे बताया क्यों नही..!!

जो अपना होता है वह चेहरे पर आने वाली
हंसी से जान लेता है इंसान सच में
हंस रहा है या एक्टिंग कर रहा है

प्यार करके गलती कर दी गालिब
प्यार के शब्द से भी अब डर लगता है..!!

अच्छा होता हम मिले न होते कभी
ना हम मिलते ना प्यार होता
और न ही आज ये नोबट आती..!!

Ek Dard Bhari Shayari

Zindagi Dard Bhari Shayari

मेरा बोलना चुभने लगा है उसे
जो कभी अपनी कसमें देकर
मुझसे बात करने की जिद करता था..!!

हम आएंगे तुम्हारे निकाह में
हम भी देखें नसीब वाले कैसे होते हैं..!!

यूं ना तड़पाओ ऑनलाइन दिखाकर
अब छोड़ ही दिया है तो ब्लॉक कर दो..!!

चूभती है तेरी बेवफाई तीर की तरह
फिर भी चुप हूं अपनी तकदीर की तरह..!!

गुजर जाता है पूरा दिन दिखावे की हंसी में
रात होते ही रो पड़ते हैं खुद की बदनसीब पे..!!

माना कि तुम पर बहुत शक करते थे
पर तूने कभी महसूस नहीं किया
खुद से भी ज्यादा तेरी परवाह करते थे..!!

वह जिस दिन देखेंगे मुझे किसी और की दुल्हन बने हुए
उस दिन उन्हें मेरी तकलीफ का अंदाजा होगा..!!

गलतफहमी एक ऐसी चीज है
जो अपनों को पराया बनाने में समय नहीं लगाती..!!

जब महबूब की दोस्ती
किसी और से होने लगती है
तो उसका हमसफर खुद व खुद
दर्द से दोस्ती कर लेता है..!!

Dard Bhari Shayari

Zindagi Dard Bhari Shayari

आज मेरी प्यार की दुनिया हुई अस्त है
मेरा चाहने वाले किसी और के साथ व्यस्त है..!!

तुमने जीते जी नही समझा हमको
मरने के बाद क्या खाक समझोगे..!!

दर्द के सिवा कुछ नहीं मिला मोहब्बत करके
हसी क्या होती है जीते जी कभी जी नही पायेंगे अब..!!

गिला करू भी किससे हमे चाहे वाले
किसी और के दीवाने हो चुके है..!!

टाइम पास मोहब्बत जिंदगी बर्बाद नही
इंसान को जिंदा लाश बना देती है..!!

हम ही बुरे आप अच्छे हो
हम झूठे आप ही सच्चे हो..!!

सबसे ज्यादा दर्द तब होता है  जब हम
अपना दर्द किसी को बता नहीं पाते।

पास जातक वो रहे दर्द थमा रहता है,
फैलता जाता है फिर आँख के काजल की तरह.

अब यादों के कांटे इस दिल में चुभते हैं,
न ये दर्द ठहरता है न ये आंसू रुकते हैं.

कभी कभी ये क्यों लगता है,
कि तुम मेरी पूरी ज़िन्दगी हो।
और मैं तुम्हारा लम्हा भी नहीं।

आज अलफ़ज़ नहीं मिल रहे थे,
दर्द लिख दिया हूँ महसूस कीजिये।

जिसने अदा सीख ली गम में मुस्कुराने की,
उसे क्या मिटाएंगी गर्दिशें ज़माने की.

किताबों के अलावा जो चीज सबक देती है,
उसका नाम ज़िन्दगी है।

दर्द तो रोज का तमाशा है,
आज तो सदीद है साईं।

उसकी दर्द भरी आँखों ने जिस जगह को कहा था अलविदा
आज भी वहीँ खड़ा है दिल उसके आने के इंतज़ार में.

हम अपने दर्द का शिकवा तुमसे कैसे करें,
मोहब्बत तो हमने की है तुमतो बेक़ुसूर हो।

Zindagi Dard Bhari Shayari

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *